September 23, 2022

Ye Rishta Kya Kahlata Hai 9 May 2022 Written Updates

Ye Rishta Kya Kahlata Hai 9 May 2022 Written Updates

ये रिश्ता क्या कहलाता है 9 मई 2022 रिटेन एपिसोड अपडेट: अक्षु की सैंडल चोरी हो गई

एपिसोड की शुरुआत अभि के साथ अक्षु को देखकर और मंत्रमुग्ध होने से होती है। वह खुशी से रोता है। हमारी बन्नो प्यारी….नाटक…. हर कोई मुस्कुराता है। अक्षु ने गाया मेरी जिंदगी में आया हो…. वह अभि का हाथ पकड़ती है। वह घूंघट उठाती है। अभि उसे देखता है। हर कोई ताली बजाता है। वह पूछती है कि आपको मेरा सरप्राइज कैसा लगा। वह कहता है कि तुम जैसे सबसे अच्छे, तुम इतने अच्छे लगते हो, कोई इतना अच्छा कैसे दिख सकता है। वह अक्षु का अभि को अपने स्टोल पर कढ़ाई करते हुए दिखाता है, और पूछता है कि आपको मेरा सरप्राइज कैसा लगा। वह हंसती है। दादी उन्हें एक-दूसरे को वरमाला पहनाने के लिए कहती हैं। अभि और अक्षु को वरमाला मिलता है। उनके भाई उन्हें उठाते हैं और रस्म को दिलचस्प बनाते हैं। अभि और अक्षु ने माला का आदान-प्रदान किया।

ये रिश्ता….खेलता है…. दादी ने उन्हें बधाई दी। वह उन्हें मौज-मस्ती करने के लिए कहती है अगर वे चाहें तो पूजा में बैठने के बाद उन्हें देर तक बैठना पड़ता है। नील का कहना है कि हम कैरव और आरोही को जूते चोरी नहीं करने देंगे। वंश पूछता है क्यों, क्या तुमने दूल्हे को नंगे पांव रखा। अक्षु कहता है हाँ, यह रसम है। अभि कहता है अजीब बात है, सबको मजा आएगा, मैं भी जूते चुराना चाहता हूं। वह पूछती है कि क्या आप अपना चोरी करेंगे। वह कहता है किसी और का। वह कहती है कि वादे मेरे लिए छोटी रस्में हैं। वह मुझे भी कहते हैं। आरोही ने नील और पार्थ का मजाक उड़ाया। वह कहती हैं कि हमें इस रसम में कोई दिलचस्पी नहीं है। वंश कहते हैं कि यह पुराना है।

मनीष अभि और अक्षु से तस्वीरें क्लिक कराने के लिए कहता है। अभि नील से कुछ मजा करने के लिए कहता है। अक्षु कैरव और आरोही से जूते चुराने के लिए कहता है। आरोही कहती है कि हम ऐसा करेंगे और गले मिलेंगे, तुम अभि को कुछ नहीं बताओगे। वंश कहते हैं, हां, जाओ और तस्वीरें क्लिक करवाओ। अक्षु कहते हैं ओह, तो यह योजना है। अभि और अक्षु तस्वीरें क्लिक करने जाते हैं। वह उसे दिल से मुस्कुराने के लिए कहती है। वे दिल बनाते हैं।

उनका कहना है कि आपने हैवी लहंगा पहनने को कहा था, हल्के लहंगे में भी आप खूबसूरत दिखेंगी। वह कहती है कि आप मुझे नाइट सूट में भी सुंदर लगेंगे। वह कहता है कि तुम शरारती हो, मुझे ऐसी आशा देने के लिए धन्यवाद।

नील कहता है सॉरी, मैं अक्षु को टीका लगाना चाहता हूं। अभि कहता है कि तुम अक्षु से बहुत प्यार करते हो। नील कहता है हां, वह मेरे लिए सीता जैसी है। नील अक्षु को सैंडल निकालने के लिए बनाता है, उसे उसके पैर धोने हैं और फिर तिलक भी करना है। वह सैंडल हटा देती है। वह सैंडल को एक तरफ ले जाता है। निशा लेता है। नील आरोही को टीका लगाता है। आरोही कहती है कि अक्षु तुम्हारी भाभी है। वह कहता है कि आप हमें विचार देने वाले महान व्यक्ति हैं, हम GenZ हैं, हम दुल्हन की चप्पल चुरा लेंगे। पार्थ ने सैंडल दिखाया। आनंद का कहना है कि नील बहुत स्मार्ट है। अभि कहता है कि नील ने अच्छा अभिनय किया है। आरोही का कहना है कि यह धोखा है। नील कहते हैं कोई रास्ता नहीं, मैं अनुष्ठान करूंगा। उसने अक्षु के पैर धोए। वह कहता है कि आपकी सैंडल 20000 रुपये की होगी, हमें पैसे दें और फिर आप इसे प्राप्त कर सकते हैं। आरोही और नील बहस करते हैं।

नील का कहना है कि मैं जीवन भर लक्ष्मण बनने के लिए तैयार हूं, लेकिन मैं अब टीम राम से हूं। वह कहती है कि मैं जूते चुरा लूंगा। नील का कहना है कि लड़कों को जूते पसंद नहीं हैं, वह कल कभी भी इन जूतों का इस्तेमाल नहीं करेंगे। अभि कहता है कि मैं इसे आज ही हटा सकता हूं। नील का कहना है कि लड़कियां उनके जूतों और झुमके की दीवानी होती हैं। अक्षु अपनी सैंडल मांगता है, वह इसके बिना गिर सकती है। अभि सॉरी कहता है। नील और अभि मजाक करते हैं। पार्थ कहते हैं नील, अक्षु हम इन सैंडल की नीलामी करेंगे, हम इसे अधिक कीमत पर बेचेंगे। वे इसे 10 लाख रेट करते हैं। अक्षु अभि से उसकी मदद करने के लिए कहता है। अभि कहता है कि मुझे इसमें मजा आ रहा है, यह अलग बात है, आप इस बार परेशान होंगे, मुझे मजा आ रहा है, मैं किसी को नहीं रोक रहा हूं। हर्ष और आनंद कहते हैं मजा आ गया। मंजरी कहते हैं कि काश शादी अच्छी होती। दादी का कहना है कि हम अभी मंडप की ओर बढ़ेंगे।

अभि अक्षु को आने के लिए कहता है। अक्षु कहते हैं कि मैं नीचे गिर सकता हूं, लहंगा लंबा है, फट सकता है। मंजरी ने नील से सैंडल लौटाने को कहा। नील और सभी ने मना कर दिया। अभि कहता है कि मैं मंडप तक पहुँचने में तुम्हारी मदद कर सकता हूँ, मैंने तुमसे वादा किया था, मैं तुम्हारे लहंगे को कुछ नहीं होने दूंगा। वह अक्षु को उठाकर ले जाता है। जानी….नाटक…..वह उसे मंडप में लाता है। सब खुश हैं। दादी ने पंडित से शादी की रस्में अभी शुरू करने को कहा। मंडप में अभि और अक्षु बैठे हैं। मनीष और सुवर्णा भावुक हो जाते हैं। अक्षु को लगता है कि हम इस पल का इंतजार कर रहे थे। वह अभि को देखती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status